Mobile App क्या है ? पूरी जानकारी | App Marketing kya hota hai

mobile app kya hai
mobile app kya hai

अगर आपके पास smartphone है तो ये निश्चित है की उसमे कोई न कोई Mobile App जरुर होगा और इसीलिए चूँकि अब हर लोगो के पास अब mobile आ गया है और उसके साथ ही उसमे application भी तो इसीलिए बहुत सारे लोग अब अपना खुदका app बनाकर पैसा कमा रहे है इसीलिए आज हम आपको  app के बारे में बताएँगे और app बनाने का पूरा process से लेकर app से पैसा कैसे कमाते है पूरी जानकारी देंगे तो देर किस बात की चलिए शुरू करते है

सबसे पहले जानते app kya hai

 

mobile app kya hai
mobile app kya hai

 

App क्या होता है? (What is Application in hindi)

App का full form Application होती है, जो आपकी computer , laptop, tablet,smart phone जैसे electronic device पर install करके use किया जाता है।

वैसे तो Mobile App के द्वारा desktop app भी हुआ करते है , जैसे notepad जिनकी अपनी importance है, लेकिन आज कल app का मतलब mobile application से लिया जाता है इसलिए आज हम mobile apps के बारे में जयादा बात करेंगे।

 

Google के अनुसार कितने लोग Mobile application प्रयोग करते है ?

आज Google Play store पर करीब 2.7 million apps मौजूद है ,जो business ,shopping, scheduling and productivity जैसे कई सारे categories में उपलब्ध है। ऐसा लगता है कि इस time को app time ही कह दिया जाए ,तो कैसा रहे?

  • इसके साथ android के popular apps में gaming apps पहले नंबर में रहते है। तो education app दूसरे नंबर में , लेकिन ये Mobile App इतने high demand में कैसे रहते हैं।
  • इसका reason यह है कि 51 percent users अपने mobile apps के application को एक दिन में 10 बार देखते हैं। और 25 percent user user 10 से 20 बार देखते है, और 2 percent user ऐसे भी होते है ,जो एक दिन में 100 बार ऐसा करते होंगे।

ये apps young, adults में ज्यादा popular होते है, और इस generation के लोग हर महीने 96 hour app देखने में गुजारते है। जबकि उनसे जयादा उम्र के लोग हर दिन करीब 1.5 hour app को देखते है।

जहाँ तक Google Play store and app store कि बात है, तो Google Play store को जयादा downloading grade मिलती है। और android कि जयादा सखयां होना भी जरूरी है। लेकिन जब revenue कि बात आती है, तो iOS का revenue जयादा होता है।

 

Google Play Store (Android app) और  iOS app store में क्या अंतर है ?

आइये हम जानते है दोनों में अंतर यहाँ अगर आप android and iOS के बीच का difference समझ गए तो, आपके लिए app बनाना easy हो जाएगा। इसलिए आपको बता देते हैं, कि ये दोनों अलग platform है जिनकी programming language अलग है texting aplauses अलग है।

  • development tools course ,
  • App stores accepts ,
  • design principal,

target audience stragities बिलकुल अलग है, जहाँ whatsapp, facebook, instagram ,Microsoft Excel, linked snapchat android application है

वहीं spark email ,bing and downcast iOS apps कि list भी शामिल है,ऐसे में app बनाते time आपको सही decision लेना होगा कि आप इसे किस operating system में launch करना चाहते है।

Apple App store या google App store अपना app बनाते time अपने app time को समझने के साथ साथ अपने target audience का पता भी लगाइए।

अच्छा एक बात बताइए क्या आपको लगता है कि user के तौर पर हर रोज फायदा उठाते ही है, लेकिन as a business man देखे तो app आपकी बहुत तरह से मदद कर सकता है। खासकर small businesses को app कि मदद से काफी फायदा मिल सकती है।

जैसे business exposure sale में बढ़ोतरी ।customer के loyalty का बढ़ावा target audience तक easy और awareness में बढ़ावा ।इस business कि progress के लिए बहुत सारे factors कि जरुरत होती है, जो आपको app के through दिला सकता है।

business area का extend करने में helpful और साथ ही साथ company कि productivity भी बढाता है। और business के लिए services भी provide करती है,|

जैसे  – counting, inventory management and CRF software तो चलिए आगे बढ़ते है, और आपको बताते है, कि mobile apps कि कितनी categories है?

 

Mobile apps कितनी category की होती है ?

दोस्तों हम mobile applications का उपयोग तो करते है पर हमे नहीं पता होता की जो app हम use कर रहे है वो किस category का है तो आइये जानते है

Mobile apps 3 categories में मिलते है।

  1. Native
  2. web
  3. Hybrid apps

सबसे पहले बात करते है

  1. Native apps – Native apps के बारे में ये apps केवल एक ही platform के लिए design किए जाते है। जैसे apple iOS , google androids or windows phone इस तरह के apps बहुत ही fast होते है और interactive होते है। whatsapp facebook and twitter Pokemon इसी type के applications है।
  2. Web appsइन apps को user device में बहुत ही कम storage base कि जरुरत पडती है। कयोंकि database internet user पर store रहता है। Google Docs, Netflix ,pixler इसके उदाहरण हैं।
  3. Hybrid apps  – ये apps native and web technologies को support करते है। येnative appsके comparrision में slow होते है। और web के comparrision में expensive होते है। Evermore ,uber, Gmail इसके उदाहरण हैं।

अब अगर आप made in india applications के नाम जानते है, तो हम आपको ऐसे popular applications के बारे में बता सकते हैं। जैसे Make My Trip ,Goibbio ,Gana, Book My Show , Paytm, Mobikwik ,TeenPatti ,Flipkart ,Hike, Quikr ,Olx and Justdial india के इतने सारे apps जान लेने के बाद आपको ये पता हो जाना चाहिए कि apps world में कितने जल्दी पैर पसार रहा है। और इसका future भी बहुत bright है। ऐसे में app बनाना फायदे का सौदा हो सकता है।

 

Mobile App बनाने में कितना खर्चा होता है ?

दोस्तों आप एप्लीकेशन बनाकर पैसा कम सकते है ,लेकिन ये भी सच है कि app बनाने के लिए आपको काफी खर्च करनी पडेगी।

जैसे एक simple app बनाने के लिए आपको 5000 dollar तक pay करनी पड़ सकती है। और अगर आपका complex app हो तो ये amount 40000 dollar तक भी जा सकता है।

App बनवाने के लिए आप software company या mobile development agency को pay कर सकते हैं। लेकिन अगर आप basic feature वाला app बनाना चाहे तो आप खुद भी अपना free application बना सकते हैं। और कमाल कि बात ये है कि इसके लिए कोई coding experience कि जरुरत नहीं है।

 

Top App Making company जहाँ से आप mobile app बना सकते है ?

इसके लिए आप इस platform पर अपना हुनर अजमा सकते हैं। Appery. Io ,mobile roadie ,the app builder , good barber , appe pie, App machine , games salad and business app

तो चलिए मान लीजिए कि आप अपनी खुद application बना लिया या फिर developer से अपने company ,Blog service and product के लिए app बनवा लिए ।

लेकिन अब आगे क्या ?

 

mobile app kya hai
mobile app kya hai

 

Mobile App को playstore में कैसे upload करते है ?

App के जरिए earning आपको app through user तक पहुंचाना होगा। और उसके लिए आपको अपनी app ready करनी होगी ,और उसे Google Play store पर place करना होगा।

इसके लिए आप Google Play store पर इससे जुड़ी details fill करके free and paid app में upload करे। तो ये भी जान लीजिए कि आप अपनी app को paid से free app में convert कर सकते हैं। लेकिन एक बार app को free करने के बाद उसे paid नहीं बना सकते।

अब अगला सवाल है कि ये free and paid app क्या होते है तो free app ऐसी application होती है, जिसके लिए आपसे कोई charge नहीं लिया जाता है। ऐसी application paid कि तुलना में जयादा download होते है।

कयोंकि इसमें user को जयादा facility मिलती है। कि वो उस app को download कर सके। आप free apps include करके भी earnings कर सकते हैं। free apps को positive reviews मिलते है और ये reviews app store optimization पर positive impact डालते है।

जिससे कि applications को जैसे ज्यादा downloads मिलते हैं। जब कि paid app को हर downloads पर ज्यादा revinew मिलता है और user भी इनके प्रति ज्यादा loyal रहते हैं ।कयोंकि इसके लिए pay करते हैं ।

लेकिन अगर अच्छे review के बावजूद users purchase नहीं करना चाहते हैं तो reason यही होता है कि वो उस App को try नहीं कर सकते हैं । ऐसे में उन्हें paid app के जगह किसी free app को choose होना ज्यादा profitable लगता है। और हाँ paid app के पास limited optimization होता है।

जैसे monthly and yearly fees.whereas free app have multiple monetazation positions possibilities है। शायद इसलिए Google Play store पर मौजूद free application कि सखयां paid app से जयादा है।

Free and paid के इस difference के बाद आपके लिए ये जानना बड़ा ही interesting रहेगा कि current digital environment app focused है और year 2020मे Mobile App से app store और in app advertising के जरिए 581.9 billion dollar revenue generate किया।

ऐसे में आप app से earning करना चाहेंगे, जो सही भी है। इसके लिए आपको अपने app को जयादा user तक पहुंचाना होगा। ताकि आपका application ज्यादा से जयादा install हो सके। और इससे कमाई करने का रास्ता भी खुल सके।

लेकिन इसके लिए आपको अपने app.को Promote करना पड़ेगा। अब अगला सवाल कैसे? इसके लिए पहले आपको ये जानना होगा app installation कैसे increase किया जाए।

Digital marketing क्या है ?

App Marketing क्या है ? (mobile apps को promote कैसे करे ?)

दोस्तों mobile apps बनाने के बाद app को लोगो तक पहुचना यानी promote (विज्ञापन) करना |

mobile apps को 8 तरीको से promote किया जा सकता है जो निम्न है –

  1. App Store Optimization
  2. Social Media Marketing
  3. KPIS (key performance intdicators)
  4. Paid user acquisition campaigns
  5. .Retention campaign
  6. .Email marketing
  7. Micro site
  8. YouTube ads

आइये इन्हें विस्तार से जानते है एक एक करके क्योकि हर marketing का अलग अलग खासियत होता है  —

  • App store optimization  – ये आपकी app store Google Play store app visibility improve करने वाला process । इसके जरिए organic user को attract किया जाता है।

organise user – वो होते हैं, जिनहे mobile advertising के जरिए app download करने की ज़रुरत नहीं पडती। यानी ऐसे users बिना किसी reference के app पर पहुंच जाते है, और उसे download कर लेते हैं।

organic users को paid user के comparrision में जयादा value मिलता है।
Seo कि तरह Aso के लिए ऐसे keyword icon identify करने होगी। ताकि आपके app को high ranking दिला सके। इनके अलावा high ranking के लिए screenshots titles and app download पर ध्यान देना होगा।

  • Socialmedia marketing –  Marketer होने के नाते आप social media activity को miss करने का chance बिलकुल मत लीजिए। और regular अपनी post डालते रहिए। ताकि आपकी products ranking बढ़ती रहे। इसके लिए आप blog entries competition जैसे activities को use कर सके। आप अपने app में social media को integrate भी कर सकते हैं।
  • KPI (key performance intdicators) – इस तरह के indicators कि मदद से आपको ये पता चलेगा कि आपका app perform कैसा कर रहा है। और उसे किस area में सुधार कि जरुरत है।

important kpi ये है daily active users weekly active users monthly active users cost per acquisition CPA , cost per install CPI , cost per mill CPM, click through rate CTR ,conversion rate , retention rate and app churn.

  • Paid user acquisition campaigns -इस तरह के campaign के जरिए आप अपने app पर नए users ला सकते हैं। इसके लिए आपको paid apps कि help लेनी होगी। और इस campaign के success के लिए आपको ये पता होना चाहिए कि users को attract करना चाहिए। और उनसे कौन सा action कराना चाहते हैं।
  • Retention campaign  -आपके app कि retention rate है जो निशचित रूप से बने हुए हैं। ये retention rate पहले दिन 26 percent सातवे दिन 11 percent 21 दिन 7 percent and 30 दिन 6 percent रह जाते है ।

हालांकि ये rate आपकी app के according हो सकती हैं। ये retention rate को बढाने के लिए आप special content करा सकते हैं। अपने users को discount coupons भी दे सकते हैं। message के जरिए अपने app पर हुई update भी share कर सकते हैं।

  • Email marketing -अपने app को promote करने के लिए आप email marketing कि मदद भी ले सकते हैं।
    Email के जरिए आप update and promotional offers share कर सकते हैं। इससे आपका retention increase होगा और revenue generate होगा।
  • Micro site -अपना app बनाने के साथ अगर micro site भी बनाएगें तो आप के app के बारे में लोग जयादा जान पाऐगें।

इस cost effective में आप Seo के जरिए users promote कर सकते हैं। app installation increase करने के लिए आप facebook google platforms पर campaign use कर सकते हैं।

इस app के जरिए आप अपने app को users तक आराम से पहुँचा देंगे

  • YouTube Ad – YouTube Ad network इसके जरिए आपका ad YouTube video के पहले बीच में और बाद में show होगा । ये ads दो तरह के होते हैं।
  1. in stream
  2. video discovery

इसमे आप अपने target audience को choose कर सकते हैं जिनहे आप वो advertisement दिखाना चाहते हैं।

Display network – google display network के जरिए आप अपने message users तक सही जगह और सही समय पर show करा सकते हैं।

इसके जरिए आप new users search कर सकते हैं। और existing users को भी engage कर सकते हैं। और अब इस तरह से आपका app promote हो जाएगा तो ज्यादा से जयादा users इसे install कर लेंगे ।

और बाकी के सारे factors जैसे retention rate बगेरे को balance कर लेंगे तो आप अपने app through earning आसान हो जाएगा।

अब app के जरिए earning कौन कौन सा आप use कर सकते हैं।

 

mobile app kya hai
mobile app kya hai

 

Mobile App App में कितने तरीके के ads (Advertisment) लगा सकते है ?

google add mob तो आप add mob through app से earning कर सकते हैं। ये एक free platform है जिसके according targeted app display का option देता है।

और आपके apps पर मौजूद होने वाले clicks and impression के जरिए आपको pay करता है। इसपर आपको 4 adds format मिलेंगे।

1.banner 2.intestial 3.rewarded video 4.native, banner आपके app में rectangular shape में होगा जो app layout में काम करेगा। जबकि instestial app full page में काम करेगा बात करे rewarded app कि तो ये users को game खेलने servey में part लेने और native app में आप अपने application में खाली fill और look customize कर सकते हैं।

  1. In App Advertising – आपने ये सोचा करते होंगे जिस free app को users download करते हैं उससे earning publishers को कैसे होती हैं। तो उसका जबाव है कि उस app पर आने वाले adds से ही earning कि जा सकता है। और ads के जरिए revenue generate करने का model profitable है।
  2. In App Purchases and Premium – इसके according appतो free है लेकिन usersको जयादा virtual variety चाहिए तो उसे amount pay करना होगा।

इस virtual variety में extra lives ads free premium app content game currency जैसे बहुत सारे चीजे शामिल होती है। इस model से maximum earning भी कि जा सकती है।

  1. Subscription इसमे mobile application किसी particular weekly monthly fee charge करते हैं। ये model जयादा तर cloud based model है।
  2. Sponsorship Mobile App के जरिए earnings का एक और तरीका है sponsorship इसमें app maker को अपनी app में fund लगाने कि जरुरत पडती है। और sponsors को अपनी जयादा से ज्यादा audience तक पहुंचाने का platform चाहिए होता है इसलिए ऐसी company apps को sponsor करती हैं। इस तरह sponsorship में दोनों को फायदा होता है ।
  3. Crowd funding इसके लिए starts up and company kick-start crowd funder and indegogo जैसे funders अपना app idea exchange करते है। और अपना app के लिए fund expect करते है।
  4. Referral marketing इस तरह के marketing आपके customer उनके दोस्तों और आपके brand shared link इधर उधर घूमती है। इसमें आपके current customer आपके brand को अपने दोस्तों relatives और भी लोगों के सामने personally share करते है।

ताकि आपको new users मिल सके। और उनहे आपके apps से rewards मिल सके। जो उनके लिए तो होगी ही साथ ही उनके दोस्तों के लिए भी होगी। google uber drop box इसका इस्तेमाल खूब करते है।

  1. Affilate marketing इस तरह के marketing में affiliate आप के company products को advertise करते हैं। जिसके लिए उन्हें pay किया जाता है। इसका use business clips में ज्यादा download के लिए करते है।
  2. Transaction fee – इसके जरिए app store पर कमाई की जा सकती हैं। ऐसा उन apps के लिए possible है जो ऐसा platforms provide करते हैं। जहाँ regular transaction होते है।

जैसे आपके Mobile App पर 3rd party उसके लिए option है। अब आपको अपनी app promote करनी है और app through earning करने के तरीके भी जान चुके हैं। तो बाकी रहा क्या।

 

अब इसके लिए क्या क्या mistakes होता है उनहे जान लेते है।

 

Mobile app बनाते वक़्त क्या गलतियाँ होती है ?

1.बिना marketing plan किए app बना लेना ।
2.अपने app के customer baseको ignore करना।
3. अपने app user को value नहीं देना।
4.app store optimization को ignore करना।
5.अपने users को बार बार तंग करना।
6.अपने app को promote करने में social media का use सही नही कर पाना। तो इसलिए आप इन सभी mistakes को avoid करिए। तो अब आपका app marketing का concept clear हो गया होगा। और आपको ये विडियो जरूर समझ आया होगा।

Artificial Intelligence (AI) kya hai | पूरी जानकारी |

Features of Java in hindi | पूरी जानकारी

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे आशा है की आपको app के बारे में पूरी जानकारी मिली होगी इसमें हमने बहुत कुछ सिखा जैसे

  • mobile app kya hai
  • mobile app कैसे काम कारता है
  • mobile application कैसे बनता है
  • mobile app marketing kya hai
  • दुनिया में कितने लोग app का प्रयोग करते है

लगभग सारी चीजो को जाना अगर आप अपना app बनाना चाहते है तो सबसे पहले app marketing के लिए stragety बना लीजिये और app बनाते वक़्त गलतियों को भी जान लीजिये ताकि आपसे न हो mistakes उपर दी हुई है | दोस्तों आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ साझा भी कर सकते है और कोई प्रश्न हो तो comment करे इसका जवाब हम जल्द से जल्द देने की कोशिश करेंगे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here