Hyperloop kya hai | पूरी जानकारी | intresting use of hyperloop technology

Hyperloop kya hai
Hyperloop kya hai

दोस्तों आज हम फिर technology ज्ञान लेकर उपश्थित ही और इस पोस्ट में हम जानेंगे की Hyperloop kya hai और hyperloop कैसे काम करता है ये technology इतनी famous क्यों है इसकी पूरी जानकारी लेंगे तो चलिए शुरू करते है | लेकिन पहले थोडा hyperloop के बारे में जानते है

About Hyperloop

ये Hyperloop Technology बहुत ही, नई और काफी रोमांचक है। इसके बारे में जानने के बाद आप सोचने लगेंगे कि क्या वाकई में आप बहुत जल्दी ही एक ऐसे vehicle में बैठ सकेंगे जो bullet train कि speed को भी मात दे देगा। और

उसका structure और उसका journey भी इतनी exciting होगी। ऐसे में quick support channel आपके लिए लेकर आया है hyperloop technology से जुड़ी पुरी जानकारी। जो की बहुत ही interesting होने के साथ साथ काफी innovative भी है। तो चलीए शुरू करते हैं, और आपको बताते हैं |

hyperloop technology से जुड़ी सारी बाते। आइये आपको बताते हैं, कि hyperloop technology से introduce किसने कराया? कौन है वो आदमी जिसके दिमाग में इतना कमाल का विचार आया।

तो ये hyperloop का idea लगभग 200 साल पुराना हैं। चौक गए। जी हाँ कयोंकि 1799 में British inventor George medhurst ने transportation के तौर पर air porportional tube का patent करवाया था। और उसके इतने साल बाद 2013 में Tesla motor and spacex के CEO Elon musk ने hyperloop का design fix किया। उनके इस idea और design को पूरे world में अच्छा response मिला।

 

Hyperloop kya hai
Hyperloop kya hai

 

Hyperloop technology का उपयोग कैसे होता है वाहनों में –

Alon musk का कहना है, कि hyperloop ports train से ज्यादा fast होगें। car से ज्यादा safe होगें। और air craft कि तुलना में environment को कम नुकसान पहुंचाएगे।

Alon musk का ये idea यानी hyperloop एक open source technology हैं। इसका मतलब ये हुआ कि hyperloop बनाने का right alon musk ने सबके साथ share किया हैं। ताकि hyperloop बनाने का काम progressive रहें। और जल्दी से जल्दी hyperloop दुनिया के सामने आ सके। उसी का नतीजा हैं कि आज बहुत सारे कंपनियां hyperloop बनाने में जुट गई हैं।

जैसे कि version hyperloop one, HTT, transport and Arrivo जैसी कंपनियां hyperloop बनाने का fundamental idea तो इन companies का same ही रहेगा। लेकिन इसे बनाने में use होने वाले technology में थोड़ा preference देखने को जरूर मिलेगा।

यानी हलके से twist के साथ बहुत ही जल्दी hyperloop हमारे सामने होंगे। और अभी version hyperloop 1private company hyperloop project को बहुत जल्द साल 2021तक शुरू करने का इरादा रखती हैं।

hyperloop के बारे में इतनी interesting जानकारी मिलने के बाद आप ये भी जानना चाहते होंगे कि hyperloop को कब देख सकेंगे और world में कहाँ। hyperloop service शुरू होने वाली हैं।

तो इन सभी सवालो का जबाब ये है कि hyperloop technologyका basic idea भले ही काफी साल पहले सामने आ जुका था। लेकिन अभी इस technology पर काम जारी है। और माना जा रहा है। कि 2021 में hyperloop सबके सामने आ जाएगा।

Hyperloop का भारत में उपयोग कहाँ होता है ?

फिलहाल hyperloop के कई सारे routes decide हुए हैं। जिनमें कुछ routes ये हैं New to York Washington DC, pune to Mumbai , kansas city to sant Louis columbia, Bratislava Brno and Vijayawada Ambravati hyperloop के routes को जानने के बाद जानते हैं कि hyperloop technology आने से हमें क्या फायदा होगा।

hyperloop fastest train से भी बहुत fast होते हैं। यानी हम घंटो का सफर मिनटो में कर सकेंगे। इसमें बैठने के बाद आप direct अपने destination पर ही पहुँचगे। कयोंकि trains कि तरह ये बीच बीच stoppage में नहीं रूकेगी। इसका कोई टाईम टेबल या schedule नहीं होगा। बल्कि जब आप तैयार होंगे तभी port में बैठकर अपनी destination पर मिनटो में पहुँच पाँएगे।

दिखने में भले ही ये बहुत ही expensive technology लगती हो। लेकिन बाकी super fast train के comparrision में इसकी cost बहुत कम होगी। और जब cost कम होगी तो टिकट कि cost भी bullet train कि comparrision में कम होगी। इसमें low power consumption होगा।

ये hyperloop earthquake और bad weather conditions में भी safe रहेगा। ये environment friendly हैं। यानी इससे ना तो noise pollution होगा ,और ना ही waste products emission यानी उतसरजन ज्यादा होगा। तो इस technology के exciting benefits को जानने के बाद इसके कुछ side effects भी जानना बहुत जरुरी हैं।

capsule में बहुत space होने की वजह से movement करना possible नहीं होगा। इसकी speed इतनी fast होगी कि disnease feel हो सकती है, यानी आपका सिर चकरा सकता है शुरुआत में। हो सकता है कि

इस technology के impletation के लिए बहुत से पेड़ काटने पड़े। ऐसा हुआ तो environment के लिए बहुत ही नुकसान होगा। तो अब hyperloop कि बहुत से advantages के साथ इसके disadvantages के बारे में भी आप जान चुके हैं।  exactly ये hyperloop क्या है?

 

और पढ़े – Artificial Intelligence (AI) kya hai | पूरी जानकारी

 

hyperloop kya hai hindi
hyperloop kya hai hindi

 

Hyperloop kya hai ?

Hyperloop एक ऐसी technology है जो कि real vehicles में आने वाली दो ऐसी major problem को दुर करती हैं । जिनसे vehicle कि speed बहुत कम हो जाती हैं। और ये problems हैं। Friction and air resistance तो इस technology में friction और air resistance कि problem दुर होने से super fast speed हासिल कि जा सकती हैं। बिलकुल hyperloop कि तरह आप जानते हैं कि

Hyperloop technology देखते कैसे हैं?

Hyperloop में एक लंबी vacuum tube होती हैं। और capsule जैसे compartment होते हैं। जिनहे port कहा जाता है। ये ports vacuum tubes के अंदर high speed से चलता है ।

इन tubes को loop कहा जाता है और कयोंकि इस technology transport loop मे हि होता है । इसलिये इस technology को hyperloop technology नाम दिया गया है ।imagine करके देखिए कि आप steel के बने एक vacuum tube मे बैठे हैं और super fast speed से एक loop में सफ़र कर रहे है ।

सोचने मे ही कितना exciting है ना क्युकि अभी तक तो आपने भी केवल science lab मे ही vacuum बनाने का process देखा होगा।

Hyperloop की गजब तकनीके —

vacuum का मतलब तो आप समझ गए है ना vacuum यानि निर्वात ऐसी situation जिसमें हवा ना हो ।और इस technology कि तो यही अनोखी बात है कि जिस vacuum tube मे port पर बैठकर आप सफ़र करेंगे उसमे बहुत कम हवा होगी intersting ना इस vacuum tube मे पुरी हवा नहीं निकाली जती है।

बल्कि थोड़ी देर हवा इसी मे रहती है और हवा कम होने से priction भी कम हो जाता है और speed बढ़ाने के लिए energy कि जरुरत भी कम पड़ती हैं ।तो अब सवाल ये उठता है कि 5th mood of transportation यनि परिवहन का पाँचवा साधन कहाँ जाने वाला hyperloop ये काम कैसे करता है तो आये इसे भी समझते है ।

आप एक जगह से दूसरे जगह travel कर सके । इसके लिए एक point से दूसरे point तक एक बहुत लंबी tube use कि जाती है जो pillers पर टीकी होती है। इस tube मे छोटी -छोटी ports individual travel करते है और इस ports पर बैठ कर के एक जगह से दूसरी जगह पहुंच पाते है। जैसे कि Bus, Train या plane मे बैठे कर के पहुचते है।

 

Features of Java in hindi | पूरी जानकारी

 

hyperloop kya hai hindi
hyperloop kya hai hindi

 

Hyperloop में कितने तरह के technology उपयोग की जाती है  ?

Hyperloop में दो तरह के technologys इस्तेमाल होते हैं Magnetic lavitation और यानि कि चुंबकीय उत्तोलन और Air pressure इनकी वजह से port और tube मे friction नहीं होता । इससे port कि speed इतनी fast हो जाती है की magnet train कि speed को भी बहुत पीछे छोर देती हैं।

और आप ये सुन कर चौक जाएंगे कि hyperloop technology में speed 760 MPH यानी miles per hour 1200 km प्रति घंटे के बराबर रहती हैं। और इस speed से तो sound चलता हैं। इसका मतलब sound का speed से चलने वाला ये hyperloop अभी तक की super fast speed को achieve करने का दम रखता है। और दिलचस्प बात ये है, कि vacuum tube में चलने वाले port पर दो forces लगते हैं।

Magnetic force and Air Force जो ना केवल port को vacuum tube में आगे बढ़ता हैं, बल्कि हवा में भी उठा देते हैं।

hyperloop को आप इस तरीके से भी समझ सकते हैं कि magnet train में magnet के सहारे train अपने track पर चलती हैं। जिससे train और पटरी के बीच friction कम होता हैं।

जिससे उसकी speed बहुत ज्यादा बढ़ जाती हैं। और

hyperloop एक ऐसी advance magnet train हैं जिसमें vacuum tube में चलाया जाएगा। लेकिन अब सवाल ये है, कि हमें लेकिन अभी इस technology के real world में आने के लिए इसके सामने बहुत सारे challenges हैं।

जैसे कि extensive infrastructure, expansion issue यानी temperature and atmosphere change होने पर vacuum tube के फैलने या सिकुड़ जाने का risk और vacuum में सफर करना। hyperloop से जुड़े इन challenges clear होने के बाद passenger के लिए इसे पुरी तरह से safe माना जाएगा। क्या आपको पता है कि hyperloop में port के अंदर बैठकर आप कैसा feel करेंगे।

तो इसमे बैठने के बाद आपको ऐसा ही feel होगा जैसा कि एक elevator या passenger को बैठने टाईम feel होता हैं। लेकिन आपका excitement level जरूर बहुत high रहेगा। कयोंकि आप जमीन पर रहते हुए aerplane से भी fast speed में travel कर पाएगे।

 

hyperloop kya hai hindi
hyperloop kya hai hindi

 

हालांकि अभी hyperloop technology  बहुत तेजी से develop हो रहा है develop होने  के बाद आप real world में imagination का आनंद उठा सकेंगे।

तो अब देखना ये है कि Mumbai से Pune जाने में जो 3 घंटे लगती है, वो hyperloop कि मदद से 25 minute में convert होंगे। तो दोस्तों उम्मीद करते हैं कि जो hyperloop के बारे में हमने आपको बताया ये आपको जरूर पंसद आई होगी।

निष्कर्ष

दोस्तों उम्मीद करता hyperloop kya hai और इसके मजेदार उपयोग को जानकार आपको काफी कुछ जानकारी तथा जानकार अच्छा लगा होगा अगर कोई प्रश्न हो तो आप comment करके पूछ सकते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here